मेरा गाँव हिंदी निबंध Essay On My Village In Hindi

Essay On My Village In Hindi: मेरा गाँव भी भारत के लाखों गाँवों जैसा ही है । लगभग चार सौ घरों की इस छोटी-सी बस्ती का नाम कनकपुर है। गाँव के उत्तर में दिन-रात कलकल गीत गाती हुई सरस्वती नदी बहती है। खेतों की हरियाली चारों ओर इसकी शोभा बढ़ा रही है। पर्वतमालाएँ और विविध वनस्पतियाँ इसके प्राकृतिक सौंदर्य में चार चाँद लगा देती है। गाँव के बीच एक बड़ा कुआँ है, जो ‘राम का कुआँ’ के नाम से प्रसिद्ध है। कुएँ के सामने विशाल शिवालय है। उससे कुछ दूरी पर गाँव का पंचायत-घर है, जो हाल ही में बना है। पाठशाला और अस्पताल गाँव के बाहर हैं।

Essay On My Village

मेरा गाँव पर हिंदी में निबंध Essay On My Village In Hindi

गाँव के लोग

गाँव में सभी वर्गों के लोग बिना किसी भेदभाव के रहते हैं। गाँव के लोग बड़े उद्यमी, संतोषी और सुखी हैं । गाँव में जगह-जगह चरखे चलते हैं और छोटे-छोटे गृहोद्योग भी हैं। कभी-कभी मेरे गाँव में भजन-कीर्तन का कार्यक्रम भी होता है। गाँव में अधिकतर किसान रहते हैं। वे आज भी पुरानी प्रथाओं और रीति-रिवाजों का पालन करते हैं। अनेक प्रकार के देवी-देवताओं में उनका अटूट विश्वास है। शिक्षा के अभाव में उन लोगों में अभी राष्ट्रप्रेम पूरी तरह विकसित नहीं हुआ है, फिर भी उनमें भाईचारा है । होली के अबीर-गुलाल सबके हृदय में गुलाबी रंग भर देते हैं, तो दीवाली की रोशनी से सबके दिल जगमगा उठते हैं। इस प्रकार त्योहारों के दिनों में सारा गाँव एक परिवार जैसा बन जाता है।

ग्रामपंचायत के कार्य

ग्रामपंचायत ने हमारे गाँव की कायापलट कर दी है। चंदा वसूल करके गाँव में पाठशाला का मकान तैयार किया गया है और गाँव के बच्चे उत्साह से उसमें पढ़ते हैं। इतना ही नहीं, आज तो गाँव में प्रौढ़ शिक्षा का भी प्रबंध हो चुका है। गाँव के पुस्तकालय में कई पत्र-पत्रिकाएँ मँगाई जाती हैं। शाम को वहाँ हमेशा रेडियो बजता है। बाजार में भी नई रौनक आ गई है।

पाठशाला आदि

हमारे गाँव की पाठशाला में पढ़ाई के अलावा विद्यार्थियों को बागबानी की शिक्षा भी दी जाती है। कताई और बुनाई के कामों ने उनमें नया रस पैदा कर दिया है। गाँव का दवाखाना बड़ी लगन से अपना काम कर रहा है। गाँव का डॉक्टर अब किसी को बेमौत मरने नहीं देता।

कुछ दोष

मेरे गाँव में लोग कभी-कभी छोटी-छोटी बातों में झगड़ा कर बैठते हैं। कुछ लोग भाँग, तंबाकू, जैसी नशीली चीजों का सेवन भी करते हैं। कुछ लोग सफाई की ओर विशेष ध्यान नहीं देते। प्रौढ़ शिक्षा के प्रति गाँववालों की विशेष रुचि नहीं है।

उपसंहार

फिर भी मेरा गाँव अपने आपमें अच्छा है। गाँव के दोषों को दूर करने के प्रयास किए जा रहे हैं। यहाँ प्रकृति की शोभा है, स्नेहभरे लोग हैं, धर्म की छाया है और मनुष्यता का प्रकाश है। भोले-भाले स्त्री-पुरुष, स्नेहभरे भाभी-देवरों और सरल बालकों का यह मेरा गाँव मुझे बड़ा प्यारा है।


इस ब्लॉग पर आपको निबंध, भाषण, अनमोल विचार, कहानी पढ़ने के लिए मिलेगी |अगर आपको भी कोई जानकारी लिखनी है तो आप हमारे ब्लॉग पर लिख सकते हो |